kitchen vastu tips
किचन टिप्स

किचन का वास्तु कैसा होना चाहिए | Kitchen Vastu Tips in Hindi 

आज के इस Article के अंदर मैं आप सभी को अपनी रसोई को वास्तु के अनुसार कैसे बनाएं और Kitchen ke liye Best Vastu Tips बताने वाला हूँ, क्योंकी जैसा की हम जानते ही हैं की घर में हर तरह की ऊर्जा का वास होता है लेकिन किचन एक ऐसी जगह है जो सबसे ज्यादा ऊर्जा को आकर्षित करती है, फिर चाहे वो अच्छी हो या फिर बुरी हो। अगर आप इसकी सकारात्मक आभा को बढ़ाना चाहते हैं तो रसोई के लिए वास्तु के कुछ नियम हैं जिन्हें लेआउट से लेकर छोटे प्लेसमेंट तक लागू किया जाना चाहिए। 

फिर चाहे आप एक नया घर बनवा रहे हों या उसे Renovate करवा रहे हो, वास्तु का काफी ज्यादा महत्व है। वास्तु के अनुसार अपनी रसोई की योजना बनाना सकारात्मक ऊर्जा लाने और आनंदमय जीवन सुनिश्चित करने में मदद करता है। आपके घर का दिल यानी की किचन को आपका खास ध्यान देने की जरूरत है। यह वह जगह है जहाँ आप अपना रोज़ का खाना पकाने से संबंधित हर काम करते हैं और अपना ज्यादातर वक्त यही पर ही बिताते हैं। तो ऐसे में रसोई घर की मरम्मत करते समय या नई रसोई बनवाते वक्त आपको किन ज़रूरी Vastu Tips For Kitchen in Hindi को ध्यान में रखना चाहिए? उन सभी के बारे में इसके अंदर हम बेहद ही सरलता से अब जानने वाले हैं,

लेकिन उससे पहले आइए जानते हैं की हमारे घर के अंदर वस्तु के अनुसार किचन क्या महत्व रखती है| 

वास्तु शास्त्र के अनुसार किचन का क्या महत्व है?

घर का हर भाग किसी न किसी ज़रूरी वस्तु का प्रतिनिधित्व करता है। मंदिर के ठीक बाद रसोई को घर का सबसे पवित्र भाग माना जाता है। हम भोजन और पोषण की देवी माँ अन्नपूर्णा से आशीर्वाद मांगते हैं, क्योंकि हम इसमें अपना रोज़ का भोजन तैयार करते हैं। किचन वह जगह है जहाँ हम खाना बनाते हैं।

तो, यह भोजन, संतुष्टि और पोषण का भी प्रतिनिधित्व करता है। भोजन से हम न केवल भूख को संतुष्ट करते हैं, बल्कि बीमारियों को भी दूर रखते हैं। यह अच्छे भोजन की मदद से हमारे रोज़ के कामों को करने के लिए नई ऊर्जा और ताकत भी देता है।

इसके अलावा, वास्तु शास्त्र के दृष्टिकोण से, रसोई भी अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करती है। अग्नि पंचतत्वों में से एक है (बाकी वायु, जल, पृथ्वी और अंतरिक्ष हैं)। इस तरह से, इसका सही स्थान अत्यंत ज़रूरी है। अगर इसे पूर्ण संतुलन में रखा जाए, तभी यह अग्नि के वास्तु लाभ लाता है।

अगर ऐसा नहीं किया जाता है, तो यह दुर्घटनाओं के रूप में भयावह परिणाम ला सकता है। रिहायशी इलाकों में होने वाली आग की ज्यादातर घटनाएं Kitchen Area में ही होती हैं। बेशक, सावधानी की कमी इसका एक कारण है, लेकिन वास्तु विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसी कई संपत्तियों में वास्तु के हिसाब से Kitchen Area का ना होना है।

Vastu Location for Kitchen in Hindi

दक्षिण-पूर्व या उत्तर-पश्चिम दिशा को आपके घर की रसोई स्थापित करने के लिए सबसे अच्छा स्थान माना जाता है। जब पहले लकड़ी के चूल्हे पर खाना बनाया जाता था, तो इन कोनों को सबसे ज्यादा पसंद किया जाता था क्योंकि गर्म हवाएं, दक्षिण-पश्चिम से उत्तर-पूर्व दिशा की ओर बहने वाली, आग से घर को नुकसान नहीं पहुंचा सकती थीं। दक्षिण-पूर्व कोना भी सबसे अच्छा माना जाता है क्योंकि इस दिशा में अग्नि तत्व का शासन होता है।

अपनी रसोई के लिए पूर्वोत्तर (North-East) स्थान से बचें। जब सुबह का सूरज उत्तर और पूर्व दिशा से घर में प्रवेश करता है, तो एक लिविंग रूम जो दूसरे कमरों में खुलता है, एक आदर्श विकल्प होता है। वहाँ पर किचन का होना उस जगह की बर्बादी माना जाता है।

किचन की खिड़की और दरवाज़े के लिए वास्तु टिप्स

Kitchen window vastu
Kitchen Window Vastu

रसोई घर के दरवाजे उत्तर, पूर्व या उत्तर-पूर्व दिशा में होने चाहिए। क्योंकी दक्षिण-पूर्व को रसोई के लिए एक आदर्श स्थान माना जाता है, L-आकार के Layout में, अगर Countertops इन दो दीवारों के साथ स्थित हैं, तो प्रवेश सिर्फ उत्तर या पश्चिम दिशा से ही किया जा सकता है।

रसोई के दरवाजे Clockwise खुलने चाहिए। इससे अधिकांश आबादी को मदद मिलती है, जो दाएं हाथ की है। जबकि वहीं दूसरी ओर मुख्य रसोई की खिड़कियां पूर्व की ओर होनी चाहिए। सुबह की धूप स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद मानी जाती है और UV किरणें खाना पकाने की जगह को साफ करती हैं, ऐसा माना जाता है कि पूर्व की ओर की खिड़कियां प्रकाश के प्रवाह की अनुमति देती हैं और गंध, कीटाणुओं और अंधेरे को दूर करने में मदद करती हैं। यह धूप उन घर के मालिकों के लिए भी अच्छी है जो इसे सोखने के लिए बाहर नहीं जाते हैं।

किचन की छोटी खिड़कियां दक्षिण दिशा में लगा सकते हैं। ज्यादा वेंटिलेशन प्रदान करने के अलावा, ये खिड़कियां Cross-Ventilation में भी मदद करती हैं, खासकर जब से रसोई में बहुत अधिक गंध और खाना पकाने के धुएं का उत्पादन होता है जिसे ताजी हवा से बदला जा सकता है।

कुकिंग हॉब के लिए किचन वास्तु टिप्स

कुकिंग हॉब के लिए किचन वास्तु टिप्स
कुकिंग हॉब के लिए किचन वास्तु टिप्स

कुकिंग हॉब को किचन के दक्षिण-पूर्वी कोने में रखना चाहिए। क्योंकी L-आकार का लेआउट, सामान्य रूप से, दो दीवारों पर कब्जा कर लेता है, इसलिए वहाँ पर मुख्य रसोई उपकरण यानी हॉब रखना स्वाभाविक है, जबकि शेष Countertop स्थान का उपयोग खाना पकाने और तैयारी के लिए किया जा सकता है।

हमे हमेशा किचन में पूर्व दिशा की ओर मुंह करके खाना बनाना चाहिए। क्योंकी महिलाएं अपना पूरा दिन रसोई में बिताती हैं जिससे की वे सूरज की रोशनी और Vitamin D से वंचित हो जाती हैं, इसलिए इस दिशा को सूर्य की लाभकारी किरणों को सोखने के लिए आदर्श माना जाता है।

किचन की सिंक के लिए वास्तु टिप्स 

किचन की सिंक के लिए वास्तु टिप्स 
किचन की सिंक के लिए वास्तु टिप्स 

किचन सिंक को उत्तर-पूर्व दिशा में किचन के कोने में रखना चाहिए। पहले, जब बहते पानी की उपलब्धता नहीं होती थी, और पानी बड़े कंटेनरों में खुला रहता था, तो यह माना जाता था कि इसे वहाँ रखने से पानी सूरज की UV किरणों के संपर्क में आ जाता है, जिससे कीटाणु मर जाते हैं और पानी शुद्ध रहता है।

वहीं कभी भी कुकिंग हॉब और सिंक को एक साथ नहीं रखना चाहिए। आम धारणा यह है कि आग और पानी दो विरोधी ताकतें हैं और एक साथ काम नहीं करते हैं।

किचन सिंक को दो काउंटरों के जंक्शन पर नहीं रखना चाहिए। इस स्थिति में सिंक होने से इस्तेमाल करने वाले के लिए यह मुश्किल हो जाता है। हमे पानी की Leakage या उसे बेकार नहीं जाने देना चाहिए।

पीने के पानी के लिए रसोई वास्तु टिप्स

हमे हमेशा किचन के उत्तर-पूर्व में ही अपने पीने के पानी की व्यवस्था करनी चाहिए या फिर अगर Water Filter का इस्तेमाल करते हैं तो इसे भी इसी दिशा में ही लगाना चाहिए। उत्तर-पूर्व वह दिशा है जहाँ सूरज की किरणें सबसे पहले आती हैं, और उनके पानी के संपर्क में आने से यह सुनिश्चित हो जाएगा कि यह पानी अब पीने के लिए बिल्कुल शुद्ध हो चुका है।

रसोई के उपकरणों के लिए वास्तु टिप्स

रसोई के उपकरणों के लिए वास्तु टिप
रसोई के उपकरणों के लिए वास्तु टिप

देखिए Refrigerator को दक्षिण-पश्चिम या उत्तर-पश्चिम रसोई के कोने में रखा जाना चाहिए। क्योंकी दक्षिण-पूर्व की दीवारों में किचन Counter-Top लगाए जा रहे हैं।

ओवन और फ्रिज जैसे उपकरण सिर्फ उपलब्ध स्थानों जैसे दक्षिण-पश्चिम या उत्तर-पश्चिम कोनों में रखे जा सकते हैं। Microwave Oven को दक्षिण-पूर्व कोने में रखना चाहिए। चूल्हे की ही तरह, Microwave का इस्तेमाल भी खाना पकाने के लिए किया जाता है तो इसे उस जगह पर रखा जा सकता है।

पूर्व की दीवारों में Exhaust Fans लगाए जाने चाहिए, जबकि खाना पकाने का चूल्हा और ओवन दक्षिण-पूर्व कोने में रखा जाना चाहिए। यह ज़रूरी है की Exhaust Fan या चिमनी को विपरीत या पूर्व दिशा में ही रखा जाना चाहिए।

Storage के लिए रसोई वास्तु Tips in Hindi 

हमे हमेशा गैस स्टोव के ऊपर Storage रखने से बचना चाहिए। स्टोव के ऊपर की जगह को या तो खुला छोड़ दिया जाता है या गंध और धुएं को दूर करने के लिए चिमनी से Furnished किया जाता है। वहाँ पर Storage रखने से इसके नष्ट होने का कारण बन सकता है और ये जगह साथ-साथ आग के खतरे के रूप में भी काम करेगी।

रसोई की Colour Planning के लिए वास्तु टिप्स

वास्तु का मानना ​​है कि हर रंग एक खास उद्देश्य को सही ठहराता है, और रसोई में रंगों को समझदारी और सावधानी से चुना जाना चाहिए।

सफेद रंग सूरज की प्राकृतिक किरणों को सोख लेता हैं और इसे Reflect करते हैं, जिससे चमक और सकारात्मक खिंचाव पैदा होता है। सफेद को शुद्धता और दिन की शुरुआत के लिए एक अच्छे रंग से जोड़ा गया है।

पीले, लाल और नारंगी जैसे गर्म रंग भूख को उत्तेजित करते हैं और एक आरामदायक वातावरण बनाते हैं।

नारंगी, मुलायम गुलाबी, बर्फीले नीले और हरे जैसे हल्के और पेस्टल रंग भोजन को आकर्षक बनाते हैं। ये आपके भोजन को समझने के तरीके को बिल्कुल बदल देते हैं।

Kitchen ke Vastu ke liye kya Karna chahiye?

• किचन की नियमित सफाई करें। फर्श को अच्छी तरह पोछें और सभी बेकार की चीजों को त्याग दें। कभी भी टूटे-फूटे हुए कप, बर्तन या धूपदान न रखें। हमेशा रात को सोने से पहले अपने किचन और बर्तनों को हमेशा साफ करें।

• सुनिश्चित करें कि कूड़ेदान हमेशा ढक्कन से ढका रहता हो और कूड़ेदानों को नियमित रूप से साफ किया जाता हो।

• किचन की खिड़की वाली जगह पर तुलसी, पुदीना, बांस या कोई जड़ी-बूटी का पौधा रखें। कांटेदार पौधों से बचें, क्योंकि ये पर्यावरण में तनाव पैदा करते हैं।

• चावल के जार में देवी अन्नपूर्णा (भोजन की देवी) की एक छोटी मूर्ति रखें। अन्नपूर्णा देवी की तस्वीर या फलों की तस्वीर भी रख सकते हैं, जो कि रसोई में काफी अच्छा रहता है।

• एक सुव्यवस्थित और साफ-सुथरी रसोई, न केवल आसानी से खाना बनाने में मदद करती है बल्कि एक सकारात्मक खिंचाव भी पैदा करती है।

• रसोई के उत्तर दिशा में फलों की टोकरी रखनी चाहिए, क्योंकि यह बहुतायत का प्रतीक है।

• किचन में हमेशा नमक, हल्दी, चावल और आटा होना चाहिए। सुनिश्चित करें कि इनके खत्म होने से पहले इन्हें फिर से भर दिया जाए, वास्तु सलाह देता है की नमक को कांच के बर्तन या जार में रखें। इससे घर में शांति बनी रहती है और आर्थिक परेशानियां भी दूर ही रहती हैं।

• किचन को सकारात्मक ऊर्जा से भरने के लिए सुनिश्चित करें कि किचन से अच्छी खुशबू आए। आप नींबू के छिलके, संतरे के छिलके या दालचीनी की छड़ियों को उबालकर प्राकृतिक एयर फ्रेशनर बना सकते हैं।

• रसोई के चूल्हे के बर्नर को साफ रखें, क्योंकि इससे घर में नकदी का प्रवाह सुचारू रूप से होता है।

• नकारात्मकता को बाहर निकालने के लिए किचन में एक खिड़की होनी चाहिए। इसके अलावा, खिड़की के ऊपर पूर्व दिशा में एक निकास स्थापित करें, ताकि नकारात्मक ऊर्जा बाहर निकल सके।

• वास्तु के अनुसार आपकी रसोई का प्रवेश द्वार या दरवाजा पूर्व, उत्तर या पश्चिम दिशा में होना चाहिए।

• वास्तु के अनुसार रसोई की स्थिति तय करते समय, सुनिश्चित करें कि रसोई का दरवाजा हमेशा Clockwise ही खुलना चाहिए।

• सुनिश्चित करें कि रसोई के अंदर आग का प्रतिनिधित्व करने वाली सभी वस्तुएं, जैसे Gas Stove, Cylinder, Microwave Oven, Toaster आदि रसोई के दक्षिण-पूर्व भाग में रखी गई हैं

Kitchen ke Vastu ke liye kya nahi Karna chahiye? 

• शौचालय के ठीक नीचे या ऊपर रसोई न हो।

• वास्तु विशेषज्ञों के अनुसार रसोई घर का मुख कभी भी घर के मुख्य द्वार की ओर नहीं होना चाहिए।

• हमे रसोई में कभी भी दवाइयां नही रखनी चाहिए।

• रसोई घर में बेकार सामग्री, जैसे पुराने अखबार, और जिनका कोई इस्तेमाल न किया जाता हो ऐसा सामान रखने से बचें।

• वास्तु के अनुसार स्टील या लोहे के बर्तनों में नमक नहीं रखना चाहिए।

• Washbasin और Cooking Range को कभी भी एक ही प्लेटफॉर्म पर या किचन में एक दूसरे के साथ में नहीं रखना चाहिए। क्योंकी आग और पानी दोनों विरोधी तत्व हैं, इसलिए यह जोड़ों और परिवार के सदस्यों के बीच झगड़े और दरार पैदा कर सकता है।

• वास्तु शास्त्र के अनुसार जूते के रैक को कभी भी किचन के पास न रखें। किचन में जूते पहनने से बचें। अगर किसी को चप्पल पहननी है तो घर में ही पहनने के लिए अलग जोड़ी रखें।

• अगर किचन में Overhead Tanker है तो वास्तु के अनुसार उसका मुंह उत्तर या उत्तर-पूर्व में नहीं होना चाहिए। आप इसे रसोई के बाहर पश्चिम दिशा में रख सकते हैं जैसा कि वास्तु में सुझाया गया है।

निष्कर्ष (Conclusion):

आज के इस Article – Kitchen ka Vastu Kaisa hona chahiye के अंदर मैंने आप सभी को Kitchen Vastu Tips in Hindi के बारे में बताया है, वास्तु विज्ञान सदियों पुरानी अवधारणाओं पर आधारित है। जिसे की आधुनिक रसोई और घरों के अनुकूल बनाया जा सकता है। अब मैं उम्मीद करती हूँ की आपको इस Article के अंदर बताई गई सभी बाते अच्छी तरह से समझ में आ ही गई होंगी। और आप इन्हें अपने रसोई के निर्माण के दौरान ज़रूर अपनाएंगे।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

*